Sunday , March 24 2019
Breaking News
Home / Khari Khari / खरी – खरी एक्सक्लूसिव ! चुनावी हार ने धूमल के लिए पैदा किए बेबसी के हालात, किसी एडजस्टमेंट के आसार नही

खरी – खरी एक्सक्लूसिव ! चुनावी हार ने धूमल के लिए पैदा किए बेबसी के हालात, किसी एडजस्टमेंट के आसार नही

धूमल का सियासी भविष्य हो गया धूमिल

चुनावी हार ने पैदा कर दिए बेबसी के हालात

हाईकमान से किसी भी तरह की एडजस्टमेंट की उम्मीद नहीं

अगले लोकसभा चुनाव में ही किया जाएगा सियासी इस्तेमाल

शिमला : हिमाचल प्रदेश के पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल के लिए सियासी पारी का खात्मा हो गया है I विधानसभा चुनाव में हार के साथ ही उनके लिए सियासत का सिरमोर बनने का सपना चकनाचूर हो गया है I चंद दिन पहले हिमाचल प्रदेश के CM बनने का ख्वाब देख रहे प्रेम कुमार धूमल इस समय बेबसी के हालात से गुजर रहे हैं I उन्होंने अपने बलबूते पर भाजपा को हिमाचल प्रदेश में सत्ता की सत्ता बनाने का कारनामा तो कर दिया मगर उनके खुद के खराब की खराब तकदीर ने उनको सत्ता से बेदखल कर दिया I प्रेम कुमार धूमल एक महीना पहले भावी सीएम के रूप में पूरे प्रदेश की जनता के सामने घूम घूम कर भाजपा को सत्ता में लाने के लिए हाथ जोड़ कर अपील कर रहे थे, उनको यह जरा सा भी एहसास नहीं होगा कि पार्टी तो सत्ता में वापसी कर लेगी मगर हुए खुद सियासत से बेदखल हो जाएंगे I दिन पहले शिमला में उनके आवास पर जब मुलाकात हुई तो स्वर्गीय बंसीलाल और  स्वर्गीय भजनलाल की यादें ताजा हो गई I हरियाणा की सियासत के इन दोनों महारथियों का भी यही अंजाम हुआ था जो प्रेम कुमार धूमल का हुआ है I प्रेम कुमार धूमल आज उस मुकाम पर खड़े हैं जहां उनको भाजपा हाईकमान से किसी तरह के सहारे की उम्मीद नजर नहीं आ रही है भाजपा हाईकमान उनको आगामी लोकसभा चुनाव में ही इस्तेमाल करने का काम करेगा क्योंकि हाईकमान यह बखूबी जानता है कि आगामी लोकसभा चुनाव में हिमाचल प्रदेश के चारों लोकसभा सीटों को बचाए रखने के लिए प्रेम कुमार धूमल ही सबसे बड़ा हथियार रहेंगे I

हिमाचल प्रदेश में सीएम बने जय राम ठाकुर वह सियासी ताकत या जनता में जनाधार नहीं रखते हैं जो भाजपा को हिमाचल प्रदेश को चारों सीटों पर चुनाव जिताने में क्षमता रखती हो I प्रेम कुमार धूमल ही इकलौते ऐसे नेता हैं जो भाजपा के लिए लोकसभा चुनाव में माहौल बनाने का काम कर सकते हैं इसी लिए भाजपा हाईकमान उनको राज्यपाल बनाने का फैसला नहीं लेगी I भाजपा हाईकमान यह जानता है कि अगर प्रेम कुमार धूमल को किसी प्रदेश का राज्यपाल बना दिया गया तो वह पार्टी की सियासी जंग में कोई मदद नहीं कर पाएंगे I भाजपा हाईकमान बेशक प्रेम कुमार धूमल को नापसंद करता है मगर यह उसकी सियासी मजबूरी है कि उसे अगर आगामी लोकसभा चुनाव में हिमाचल प्रदेश के चारों सीटों पर फिर से फतह हासिल करनी है तो प्रेम कुमार धूमल को ही सबसे आगे रखना होगा I यही कारण है कि धूमल को अब भाजपा की सत्ता की गलियों में कोई रोशनी का गिफ्ट मिलता नजर नहीं आ रहा I शिमला में काम कर रहे मीडिया के साथियों ने बताया कि कल तक धूमल के नाम का डंका भाजपा में बजता था, अब वहां पर उनके नाम पर सिर्फ सन्नाटा और अनदेखी का आलम है I भाजपा के गिने चुने नेता ही प्रेम कुमार धूमल का आशीर्वाद पाने की इच्छा रखते हैं I

भाजपा के अधिकांश नेता अब जयराम ठाकुर के साथ सेटिंग करने के काम में जुटे हुए हैं किसी को यह ख्याल नहीं है कि प्रेम कुमार धूमल के साथ चंद लम्हे बिताकर उनके गम को हल्का किया जाए I प्रेम कुमार धूमल इस समय पूरी तरह से अनदेखी का सामना कर रहे हैं क्योंकि यह राजनीति का ही दस्तूर है कि चढ़ते सूरज को हर कोई सलाम करता है और डूबते हुए को अनदेखा कर दिया जाता है I जिस प्रेम कुमार धूमल को भाजपा के अधिकांश नेता सलाम मारने के लिए पलकें बिछाए खड़े रहते थे वही नेता और कार्यकर्ता फिलहाल जय राम ठाकुर की निगाह में आने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं I एक चुनावी हार ने प्रेम कुमार धूमल को शिखर से अर्श से फर्श पर ला कर पटकने का काम किया है I

भाजपा को सत्ता का संग्राम जिताने के बाद इस तरह का अंजाम प्रेम कुमार धूमल का होगा यह किसी ने नहीं सोचा था I मुलाकात के दौरान प्रेम कुमार धूमल के झुके हुए कंधे, भटका हुआ ध्यान और पीला पड़ा हुआ चेहरा इस बात का साफ संकेत कर रहा था कि उन्हें यह जरा से भी उम्मीद नहीं थी कि चुनाव परिणाम इस तरह का आएगा कि वह पार्टी के सेनापति होते हुए भी के रूप में जंग जीत आने के बाद इस तरह तकदीर द्वारा सत्ता से बेदखल कर दिए जाएंगे I प्रेम कुमार धूमल का हालिया मुकाम यह साबित करता है कि राजनीति में उसी का सिक्का चलता है जो सत्ता का सरताज होता है I पार्टी के नेता और वर्कर भी उसी के जयकारे लगाते हैं जो सबसे बड़ी कुर्सी पर विराजमान होता है आज प्रेम कुमार धूमल बेशक हिमाचल प्रदेश की जनता के दिलों पर राज करते हैं मगर मगर सत्ता प्रकाश फिलहाल जय राम ठाकुर का हो गया है और हर तरफ उनका ही बोल बाला है I ऐसे में यह देखने की बात है कि प्रेम कुमार धूमल इस तरह से खुद को इस अनदेखी के माहोल में एडजस्ट कर पाएंगे !!

About kharikharinews

Check Also

मेयर के चुनाव करेंगे सियासी उलटफेर/Mayer direct elections going to deciding factor

मेयर के चुनाव करेंगे सियासी उलटफेर सीधे चुनाव का फैसला पड़ सकता है भाजपा पर …

One comment

  1. Dharmender kanwari

    बहुत बढ़िया भाईसाहब

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *