Monday , October 14 2019
Breaking News
Home / Articles / क्या राहुल ने दीपेंद्र को नहीं बुलाया

क्या राहुल ने दीपेंद्र को नहीं बुलाया

इंडिया गेट पर प्रदर्शन के दौरान दीपेंद्र हुड्डा की अनुपस्थिति के क्या है मायने

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कल रात को दिल्ली के इंडिया गेट पर विशाल प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में शामिल होने के लिए उन्होंने अपने नजदीकी सभी खास नेताओं को फोन करके साथियों के साथ आने को कहा। हरियाणा के भी खास नेताओं को फोन करके आने को कहा लेकिन इंडिया गेट पर सिर्फ हरियाणा से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर। पूर्व मंत्री शैलजा और राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ही नजर आए। इन सबके बीच रोहतक के सांसद दीपेंद्र हुड्डा का नजर नहीं आना राजनीतिक हलकों में चर्चा का विषय बन गया। दीपेंद्र हुड्डा के राहुल गांधी के साथ नजदीकी भरोसे के संबंध बनाए जाते हैं लेकिन कल के प्रदर्शन के दौरान दीपेंद्र हुड्डा का शामिल नहीं होना नहीं चर्चा को जन्म दे गया है।

दीपेंद्र हुड्डा पंचकुला जिला में प्रोग्राम के लिए आए थे। वहां से देर रात को ही दिल्ली पहुंचे थे लेकिन राहुल गांधी का मार्च रात को 1:00 बजे तक चलता रहा था। इस कारण दीपेंद्र हुड्डा इस मार्च में शामिल हो सकते थे लेकिन वहां पर नहीं पहुंचे।

इसके कई कारण हो सकते हैं

या तो दीपेंद्र हुड्डा को इस कार्यक्रम में आने के लिए कहा ही नहीं गया

या राहुल गांधी के कार्यालय से उनके पास फोन नहीं गया

या दीपेंद्र हुड्डा रात को 1:00 बजे के बाद दिल्ली में पहुंचे हो

अगर दीपेंद्र हुड्डा को इस मार्च में शामिल होने के लिए नहीं बुलाया गया तो वह हुड्डा परिवार के लिए सियासी रूप से गंभीर चिंता और चिंतन की बात होगी। क्योंकि दिल्ली में रहते हुए किसी कार्यक्रम में भीड़ जुटाने के लिए कांग्रेस मुख्यालय से जिन नेताओं को पहले फोन किए जाते थे उनमें हुड्डा परिवार भी शामिल था। इंडिया गेट पर कल राहुल की अगुवाई में हुआ मार्च गांधी परिवार के लिए बहुत मायने रखता था और उसमें जुटे हजारों लोगों की भीड़ के जरिए राहुल गांधी ने अपने नए तेवरों का नजारा पेश किया।

इस कारण इस मार्च में दीपेंद्र हुड्डा का मौजूद रहना जरूरी बनता था। उनकी गैरमौजूदगी किन कारणों से रहीउनका फिलहाल पता नहीं चल पाया है लेकिन मौजूदा सियासी हालात में यह लग रहा है कि कहीं ना कहीं दीपेंद्र हुड्डा की राहुल गांधी के साथ नज़दीकियों में कुछ दूरी का आभास भी होने लगा है। इसे बदलते माहौल की सियासत का असर कहा जा सकता है।

About kharikharinews

Check Also

अहीरवाल में हुड्डा के लिए खड़े कई सवाल\Ahirwal is going deciding factor for Hudda

अहीरवाल में हुड्डा के लिए खड़े कई सवाल महेंद्रगढ़ रैली करेगी हुड्डा और समर्थकों का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *