https://youtu.be/gmKl-CoO8b4
बसपा ने लिए खास 10 फैसले 
सत्ता में भागीदारी के लिए आर-पार की रणनीति 
इनेलो के साथ गठबंधन सफल बनाने के लिए पूरी तैयारी
कुलदीप श्योराण
 चंडीगढ़। इनेलो के साथ चुनावी गठबंधन करने के साथ ही बहुजन समाज पार्टी फुल फॉर्म में आ गई है।जहां पर प्रदेश की दूसरी पार्टियों भाजपा व कांग्रेस अभी तक चुनावी तैयारी के तौर पर कुछ भी करती नजर नहीं आ रहे हैं वहीं दूसरी तरफ इनेलो व बसपा गठबंधन ने दौड़ लगाने शुरू कर दी है।
खासतौर पर बसपा की चुनावी तैयारी मिशन के तहत चल रही है । करनाल में हुई बसपा के प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में गठबंधन को लेकर बसपा प्रदेश प्रभारी डॉक्टर मेघराज ने सारी शंकाएं दूर करते हुए अपने कैडर को आर-पार की लड़ाई करने के लिए तैयार होने का आह्वान कर दिया। डॉ मेघराज ने साफ तौर पर कहा कि अगर बसपा पहली बार सत्ता में हिस्सेदारी चाहती है तो एक-एक नेता व वर्कर को पूरी ताकत लगाकर गठबंधन की मजबूती के लिए काम करना होगा। डॉक्टर ने 25 मई तक सभी बूथ कमेटियों के गठन का आदेश दिया  इसके बाद  जून के पूरे महीने में सभी 10 लोकसभा क्षेत्रों की  मीटिंग है  करने का ऐलान किया  उन्होंने बताया कि 2 जून को अंबाला 7 जून को कुरुक्षेत्र  15 जून को फरीदाबाद 16 जून को गुड़गांव  17 जून को भिवानी महेंद्रगढ़  22 जून को रोहतक 23 जून को हिसार, 28 जून को करनाल, 29 जून को सोनीपत, और 30 जून को सिरसा में  लोकसभा स्तरीय बैठक में करके  तैयारियों का जायजा लिया जाएगा  जो भी प्रभारी अपनी  अपने टारगेट को हासिल करने में फेल रहेगा  उसे पदमुक्त करने का  काम किया जाएगा ।
डॉक्टर मेघराज ने गठबंधन की सफलता के लिए 10 फैसलों का पालन करने का कैडर को आदेश दिया।
 फैसला नंबर 1
सभी सीटों पर वर्किंग 
डॉक्टर मेघराज ने पार्टी कैडर को कहा कि उनको बसपा के हिस्से में आने वाली सीटों के लिए ही नहीं बल्कि सभी 10 लोकसभा व 90 विधानसभा क्षेत्रों में मेहनत करनी है। उन्होंने कहा कि गठबंधन की सफलता के लिए यह जरूरी है कि बसपा के सभी वर्कर सभी लोकसभा व सभी विधानसभा क्षेत्रों में पूरी जी जान लगाकर मेहनत करें।
फैसला नंबर 2
 बिना इजाजत बयानबाजी नहीं
डॉक्टर मेघराज ने बसपा नेताओं को सख्त हिदायत जारी कर दी कि उनकी अनुमति के बगैर कोई भी नेता या वर्कर गठबंधनन को लेकर कोई बयान नहीं देगा। मीडिया में बयान देने के लिए सिर्फ 5 नेता स्टेट लेवल पर अधिकृत होंगे। जिला लेवल पर मीडिया में कोई बात कहने के लिए इन पांच नेताओं से ही अनुमति लेनी होगी। स्टेट के 5 नेता भी डॉक्टर मेघराज से बातचीत का एजेंडा पास कराकर ही मीडिया में अपनी बात रख पाएंगे।
 फैसला नंबर 3
 स्टेज व कुर्सी से मोह नहीं 
 डॉक्टर मेघराज ने बसपा कैडर को साफ तौर पर कहा कि उन्हें अभी से मंच और कुर्सी के मोह में नहीं पड़ना है। गठबंधन के कार्यक्रमों में उनको जहां भी जगह मिले उन्हें बैठना है और पूरी भागीदारी करनी है। अगर उनको स्टेज या कुर्सियों पर जगह नहीं मिलती है तो उनको नीचे जमीन पर बैठने में भी कोई गुरेज नहीं होना चाहिए। सबका मकसद सत्ता हासिल करना है। इसके लिए सम्मान या अपमान का कोई भी टकराव सामने नहीं आना चाहिए।
फैसला नंबर 4
 हाथी के साथ चश्मे का जिक्र 
डॉक्टर मेघराज ने साफ किया कि हर नेता व वर्कर को जनता के बीच में जाकर गठबंधन के पक्ष में मजबूती से बात करनी है। बसपा कैडर को सभी 10 लोकसभा क्षेत्रों में 90 विधानसभा क्षेत्रों की चुनावी तैयारी में जुटना है और हर जगह हाथी के साथ चश्मे का भी जिक्र किया जाएगा। जो सीट जिस पार्टी के हिस्से में आए उस पर बिना भेदभाव के चुनाव जीतने की जंग लड़नी है।  पार्टी की बजाए पूरा जोर चश्मे या हाथी की जीत के लिए ही लगाया जाएगा।
 फैसला नंबर 5
 कांशीराम के साथ देवीलाल की जय
बसपा के कार्यक्रमों में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर व स्वर्गीय कांंशीराम के साथ-साथ पूर्व उपप्रधानमंत्री स्वर्गीय देवी लाल का जयकारा भी लगाया जाएगा। दोनों पार्टियों के इन प्रेरणा स्त्रोतों के अलावा ओमप्रकाश चौटाला व मायावती की नीतियों के अनुसार गठबंधन की जीत के लिए बसपा वर्करों को दिन रात एक करना है।
 फैसला नंबर 6 
इनेलो नेताओं की बसपा में जॉइनिंग नहीं
 डॉक्टर मेघराज ने यह जानकारी दी कि गठबंधन की दोनों पार्टियों ने यह तय किया है कि वह एक दूसरे के नेताओं को ज्वाइन नहीं करवाएंगे। यानी इनेलो किसी बसपा नेता को ज्वाइन नहीं करवाएगी और बसपा भी किसी इनेलो नेता को शामिल नहीं करेगी। इन पार्टियों के पूर्व नेताओं को ज्वाइनिंग के लिए जिला अध्यक्षों से एनओसी लेकर देनी होगी।
फैसला नंबर 7 
गठबंधन के खिलाफ बयानबाजी बर्दाश्त नहीं
मेघराज ने यह कड़े शब्दों में कहा कि गठबंधन के खिलाफ किसी भी तरह की बयानबाजी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। जो भी नेता ऐसा काम करेगा उसे तुरंत प्रभाव से पार्टी से निष्कासित कर दिया जाएगा।
फैसला नंबर 8
 सोशल मीडिया पर नेगेटिव शेयरिंग नहीं
 डॉक्टर मेघराज ने बसपा कैडर को यह कहा कि गठबंधन को लेकर सोशल मीडिया में प्रसारित होने वाली किसी भी नेगेटिव खबर को वह शेयर नहीं करेंगे। जो भी नेता या वर्कर अगर ऐसा करता है तो उसे पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा।
फैसला नंबर 9
 गठबंधन के हर कार्यक्रम में भागीदारी 
मे मेघराज ने कहा कि गठबंधन की सफलता के लिए बसपा के हर नेता और वर्कर को गठबंधन के हर कार्यक्रम में शामिल होना होगा क्योंकि जब तक हर वर्कर गठबंधन की सफलता के लिए जी जान एक नहीं करेगा तब तक गठबंधन को सत्ता हासिल नहीं होगी।
फैसला नंबर 10
 दलितों को बसपा के साथ जोड़ना 
डॉक्टर मेघराज ने कहा कि बहन मायावती को प्रधानमंत्री बनाने के लिए प्रदेश के सभी दलितों को बसपा के साथ जोड़ने का काम अंजाम देना है। उन्होंने बसपा वर्करों से अनुरोध किया कि वे तमाम मतभेदों को बुलाते हुए अपने पड़ोसियों व रिश्तेदारों को बसपा ज्वाइन करवाने का काम करें।
खरी खरी बात है कि इनेलो के साथ गठबंधन होने के बाद बसपा पूरी सक्रियता के साथ गठबंधन की सफलता के लिए जुट गई है। मेघराज के तेवरों से यह लग रहा था कि वह किसी भी कीमत पर गठबंधन को फेल फिर नहीं होने देंगे। बसपा हाईकमान को पता है कि अगर गठबंधन को सत्ता नहीं मिली तो भविष्य में कोई भी बसपा के साथ गठबंधन करने के लिए तैयार नहीं होगा। बसपा नेता पूरी ईमानदारी के साथ गठबंधन धर्म निभाने की मंशा से काम कर रहे हैं। अब देखना है कि इनेलो कितने जज्बे के साथ बसपा के साथ गठबंधन को बनाए रखने, बढाए रखने और जिताने की जिम्मेदारी पूरी करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *