Monday , October 14 2019
Breaking News
Home / Khari Khari / तीन “R” करेंगे भाजपा का बंटाधार / Three ‘R’ going Dangerous 4 BJP

तीन “R” करेंगे भाजपा का बंटाधार / Three ‘R’ going Dangerous 4 BJP

तीन “R” करेंगे भाजपा का बंटाधार 
 रिज़र्वेशन, राम रहीम और राजकुमार सैनी करेंगे भाजपा के अरमानों का काम तमाम
 कुलदीप श्योराण 
चंडीगढ़।क्या यह सही है कि भाजपा प्रदेश में दोबारा सत्ता हासिल करने की ख्वाहिश रखती है?
-क्या यह सही है कि भाजपा अगला चुनाव सीएम मनोहर लाल खट्टर की अगुवाई में ही लड़ेगी?
– क्या यह सही है कि भाजपा सरकार के प्रति जनता में बड़ी नाराजगी का माहौल है?
-क्या यह सही है कि भाजपा एक बार फिर मोदी के करिश्मा के बलबूते पर सत्ता हासिल करने का ख्वाब देखती है?
-क्या यह सही है कि भाजपा की सत्ता की वापसी की राह में कांटो की भरमार है?
 उपरोक्त सभी सवालों का जवाब हां में है।
प्रदेश में दोबारा सत्ता में वापसी की के ख्वाब देख रही भारतीय जनता पार्टी के लिए यह ख्वाब पूरा करना यह मुकाम हासिल करना टेढ़ी खीर नजर आता है। 4 साल के शासन काल के दौरान भाजपा सरकार से जनता ने जो उम्मीदें लगाई थी वह पूरी नहीं हो पाई हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की आवाज में भाजपा सरकार जनता की कसौटी पर खरा उतरने में नाकाम रही है ।
ऐसे कई कारण हैं जिनके चलते भाजपा के लिए दोबारा सत्ता हासिल करना हरगिज आसान नहीं होगा ।
इस समय भाजपा के पास 46 सीटें हैं और वह पूर्ण बहुमत के साथ सरकार में हैं। दोबारा सत्ता में हासिल  सरताज बनने के लिए उसे यह जादुई आंकड़ा फिर से हासिल करके दिखाना होगा  जो वर्तमान सियासी हालात में  मुमकिन नजर नहीं आ रहा है ।
3 “R” करेंगे बंटाधार
आगामी चुनाव में भाजपा की सत्ता में वापसी के अभियान में 3 “R” सबसे बड़ा अड़ंगा लगाते हुए नजर आ रहे हैं।
यह तीन R  हैं =
1= रिजर्वेशन
 2 = राम रहीम
 3= राजकुमार सैनी
रिजर्वेशन का भूत बना कसूत
पिछले 3 साल से प्रदेश में जाट आरक्षण आंदोलन सबसे बड़ा मुद्दा बना हुआ है। भाजपा सरकार के कार्यकाल में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान भीषण हिंसा का दौर देखने को मिला। इसके कारण प्रदेश को भारी जान माल की कीमत चुकानी पड़ी। मामले को संभालने में नाकामी के चलते खट्टर सरकार की छवि पर भी काला दाग लगा । अपने दावे के अनुसार भाजपा जाटों को आरक्षण दिलाने में अभी तक नाकाम रही है।
पिछले चुनाव में जाट वोटों का एक निर्णायक हिस्सा नरेंद्र मोदी के कारण भाजपा को मिला था लेकिन इस समय जाट वोटर जाट आरक्षण हिंसा मामलों में जारी कानूनी प्रक्रिया व आरक्षण नहीं मिलने के कारण भाजपा से पूरी तरह नाराज नजर आ रहा है।
हालात इस कदर खराब है कि भाजपा के वर्तमान सभी 6 जाट विधायकों कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़, वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु, प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला, केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह की पत्नी प्रेमलता, महिपाल ढांडा और सुखविंदर मांडी की दोबारा जीत पर बड़े सवालिया निशान साफ-साफ लगे नजर आ रहे हैं।
 इन जाट विधायकों को जहां गैरजाट वोटरों में जाट होने का खामियाजा भुगतना पड़ेगा वहीं दूसरी तरफ जाट वोटरों में भाजपा के प्रति गहराई कड़ी नाराजगी का नुकसान उठाना पड़ेगा।
 90 में से 30 सीटों पर जाट वोटरों की नाराजगी भाजपा प्रत्याशियों को जीत के लिए तरसाने का काम करेगी।
राम रहीम के भक्त करेंगे हिसाब बराबर
पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा को सिरसा के दबंग बाबा गुरमीत राम रहीम सिंह का खुला समर्थन हासिल हुआ था। उनके भक्तों ने पहली बार पोलिंग बूथों पर मेज लगाकर भाजपा के लिए एकतरफा पोलिंग कराने का काम करवाया था।
 राम रहीम के भक्तों की एक तरफा मुहिम के कारण भाजपा को एक दर्जन सीटों पर जीत हासिल हुई थी। पिछले साल राम रहीम को 20 साल की सजा का सामना करना पड़ा । इसके अलावा पंचकूला में हुए हिंसा के भीषण तांडव के बीच लगभग 3 दर्जन राम रहीम समर्थकों को जान गंवानी पड़ी। इन दोनों  कारणों से राम रहीम के भक्तों में भाजपा सरकार के प्रति नफरत का माहौल है।
 अगले चुनाव में राम रहीम के भक्त भाजपा से बदला लेने के लिए उसके खिलाफ जमकर वोट डालने का काम करेंगे। राम रहीम के समर्थक दो दर्जन सीटों पर हार जीत का फैसला तय करने का काम करते हैं ।
राम रहीम के समर्थकों के कारण भाजपा को टोहाना, हिसार, बवानी खेड़ा, गुहला चीका, थानेश्वर, लाडवा, शाहाबाद, अंबाला शहर और अंबाला कैंट सीटो के वर्तमान भाजपा विधायकों पर हार का खतरा मंडरा रहा है।
राजकुमार की पड़ेगी गहरी मार
कुरुक्षेत्र के बागी भाजपा सांसद राजकुमार सैनी 2 सितंबर को पानीपत में अपनी अलग पार्टी लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी का गठन कर चुके हैं ।
पानीपत में राजकुमार सैनी के समर्थन में हाजिर हुए हजारों लोगों में से 90 फ़ीसदी लोगों ने पिछली बार भाजपा को ही वोट दिए थे । राजकुमार सैनी के अलग पार्टी बनाने के बाद अब यह सभी वोटर भाजपा के खिलाफ वोट देंगे । इस कारण भाजपा को दोहरा नुकसान होता हुआ नजर आ रहा है।
भाजपा की पहली सरकार बनाने में उत्तर हरियाणा का सबसे बड़ा योगदान रहा था । यहां की 27 विधानसभा सीटों में से 23 सीटों पर भाजपा की जीत का परचम फहराया था। भाजपा को 50 फ़ीसदी सीटें पानीपत से लेकर कालका तक की बेल्ट में मिली थी। राजकुमार सैनी का भी वर्किंग एरिया उत्तर हरियाणा बना हुआ है और वह भाजपा की हार का गड्ढा खोजने का काम कर रहे हैं।
 राजकुमार सैनी जितने मजबूत होते जाएंगे भाजपा उतनी ही कमजोर होती जाएगी क्योंकि राजकुमार सैनी को मिलने वाला एक-एक वोट भाजपा के खाते से निकल कर आएगा। राजकुमार सैनी उत्तर हरियाणा की 27 में से 15 सीटों पर भाजपा का गणित बिगाड़ने का काम करेंगे । राजकुमार सैनी को कमजोर समझना भाजपा के लिए सबसे बड़ी गलती माना जाएगा। वह भाजपा के लिए “घर के भेदी” साबित होंगे जो सत्ता से बेदखली का बड़ा कारण साबित हो सकते हैं।
 खरी खरी बात यह है कि भाजपा के पास इस समय सिर्फ नरेंद्र मोदी के रूप में ही तुरुप का पत्ता बचा हुआ है । यही कारण है कि भाजपा के रणनीतिकार केंद्र में मोदी की दोबारा सरकार बनने पर ही हरियाणा में विधानसभा चुनाव कराने पर जोर दे रहे हैं।
पिछली बार भी नरेंद्र मोदी की आंधी में ही भाजपा की प्रदेश में पहली सरकार बनी थी और दूसरी सरकार बनने या न बनने के पीछे मोदी का करिश्मा पास या फेल होना ही जिम्मेदार रहेगा।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के नाम पर भाजपा को “सत्ता दिलाऊ ” वोट मिलना उनकी नजर नहीं आ रहा है। प्रदेश के सबसे बड़े वोट बैंक जाटों का उससे खफा होना उसके सत्ता में वापसी को अरमानों को तोड़ने का सबसे बड़ा कारण साबित होगा।
राम रहीम को को जेल होना और उनके तीन दर्जन भक्तों की पंचकूला में मौत होना भी भाजपा को सियासी तौर पर बड़ी मार मारने का काम करेगा। राजकुमार सैनी की पार्टी भी भाजपा के लिए हार का प्रबंध कराने का काम करेगी।
भाजपा दोबारा सत्ता में वापसी के बड़े-बड़े दावे करती है लेकिन प्रदेश की सियासत में सबसे निर्णायक नजर आ रहे तीनों ” R” यह बता रहे हैं कि वह भाजपा का बंटाधार करने जा रहे हैं। भाजपा के पास इन तीनों “R” का कोई तोड़ नहीं है और तीनों की मार झेलना उसकी मजबूरी होगी।

About kharikharinews

Check Also

मेयर के चुनाव करेंगे सियासी उलटफेर/Mayer direct elections going to deciding factor

मेयर के चुनाव करेंगे सियासी उलटफेर सीधे चुनाव का फैसला पड़ सकता है भाजपा पर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *